दोहे । प्रेम के प्रति

।दोहे।प्रेम के प्रति।

प्रेम पियासा है जगत पशु पंछी नर देह ।
राम’ मिले पुनि लौटि के नेह देहे से नेह ।।

निज मन स्थिर प्रेमधन नयनो से प्रवाह ।
राम’ नयन में यों बसे ज्यो सांसो में आह ।

निज नेहो के बोध का चेहरा है प्रतिरूप ।
राम’ उतरकर हृदय छवि फैली जैसी धूप ।

आत्मसमर्पण प्रेम का विश्वासो के संग ।
राम’ बढे समरूप में ज्यो शरीर के अंग ।।

मातृभूम निज देश हित भक्ति सखा परिवार ।
राम’ अतिथि को दीजिये शुद्ध हृदय से प्यार ।।

..@राम केश मिश्र

Leave a Reply