शायरी

मैं पूछ बैठा मोम से क्यूँ जलता है तू लौ के लिए,
अपनी ज़िंदगी दफ़न करता है उसकी ऊँचाई के लिए ,
वो बोला इसका जवाब अपने माँ बाप से पूँछ,
क्यूँ हर वक़्त पिघलें है वो तेरी मुस्कान के लिए ।।

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 21/11/2015
  2. asma khan asma khan 23/11/2015

Leave a Reply