जब वो नहीं रही ?

जब वो नहीं रही ?
———————————-

जब तक वो साथ थी
सवेरा था, दिन था, रोशनी थी
सब कुछ था,
पर
वो अब नहीं रही…………..?
अचानक शाम हो गयी, कोहरा और अँधेरा ?
इतना घना अँधेरा, कि अब तो पता भी नहीं
कैसे कटेगी कटेगी कैसे
ये रातें लम्बी ज़िन्दगी की……………..?
सवेरा तो बहुत दूर, बहुत दूर जा चूका था ………?
———————————————

ललित निरंजन

2 Comments

  1. Gurpreet Singh 19/11/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 20/11/2015

Leave a Reply