यहाँ रोने से क्या होगा

यहाँ रोने से क्या होगा
मिलेंगें लोग बहुत तुमको चाहने वाले
मिलेंगें कम ही मगर तुमको निभाने वाले
ना जाने कैसी रिवायतें हैं कैसा है चलन
देख हालात मिलाते हाथ मिलानें वाले
जुदा भीड से रहकर के गुज़ारा भी नहीं है
बन के मेहमान ही आतें हैं दिल जलाने वाले
वक़्त की करवट का यहाँ भरोसा ही नहीं
डूबते देखे हैं हमने तूफा से निकल आने वाले
हालात से समझौता ही जिंदगी है ` मुसाफिर ‘
यहाँ रोने से क्या होगा सब हैं जाने वाले
RKV(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply