मुसाफिर का सफर

ये न समझ कि मैं गम से घबरा के पीता हुं
देखता हुं ज़माने भर के गम तो खुदा का शुक्र अदा करता हुं
RKV(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply