मुसाफिर का सफर

काश के ज़माने भर के गम पैमाने में आ जाते
तोड देता पैमाने मैं तो शायद कुछ कम हो जाते
मगर ऐसा होता नहीं है खूब तोड कर देखें हैं पैमाने
ये तो आवारा बादल हैं `मुसाफिर ‘ बिन मौसम के भी बरस जाते हैं
RKV(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply