मुसाफिर का सफर

तुम्हारे रुठ जाने का सबब भी क्या खूब था
मनाते रहे हम तुमको लुत्फ तुम्हें आता रहा
RKV(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply