मुसाफिर का सफर

जिंदगी और मौत में बस फॉसला है इतना
इक तेरे फैंसले पे टिकी हैं ये निगाहें मेरी
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply