खुदा से गुफ्त्गू

इक तेरे में ` ऑचल की छांव ‘ में सूकून पा लेता हूं
वरना ` सूरज ‘ ने कमी ना छोडी थी मेरा बदन जलाने में
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply