मुसाफिर का सफर

काश के आरजू बर्फ की डली सा जमा कर रख लेता
रगो में गरम खून दौडता है ,ये भी तो मुसीबत है
R.K.V.(MUSAFIR)
******

Leave a Reply