मुसाफिर का सफर

तोड कर आईना जब कभी खुद को मिटाया हमनें
टुट कर बिख्र्रा हुआ खुद को ही पाया हमनें
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply