मुसाफिर का सफ

जिस आदमी को आदमी की कद्र नहीं है
दुआ कबुल हो उसकी जहां ऐसा कोई दर नहीं है
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply