मैं नशे में हूं

मेरे सुरूर का असर मैं ही जानता हूं
जो तू समझ रहा है बस वो ही मैं नहीं हूं
मेरे सफर ने मुझको दिखाई है दुनियॉ
जो तू मुझ को दिख रहा है बस वो ही तू नहीं है
किसी और बहाने से खुदा तलाश लुंगा
नसीहत के आपकी मुझको फिक़र नहीं है
ज़नाजे के साथ चलकर हश्र आदमी का देखा
मैं था भी कुछ नहीं था मैं हूं भी कुछ नहीं हूं
दिल की गली के रस्ते जो शख्स जानता हो
उसको खुदा समझ लो उसे हमसफर बना लो
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply