ऐसा जीवन

ऐसा जीवन

फूलों की भांति खिलता हुआ
वायु की भांति बहता हुआ।
पानी की भांति प्रवाहपूर्ण
प्रभू ऐसा जीवन हो मेरा ।
चट्टान की भांति मजबूत छाती
दीपक के जैसी आंखों की ज्योति
तमिस्त्र मिटा हुआ प्रकाषमय
पानी की भांति प्रवाहपूर्ण
प्रभू ऐसा जीवन हो मेरा ।
आंधी ओर बवंडर से दूर
शांतचित जीवन हो मधुर
ओर धरा सारी माधुर्यमय
पानी की भांति प्रवाहपूर्ण
प्रभू ऐसा जीवन हो मेरा ।
-ः0ः-

Leave a Reply