तू संगीत है

सोचती हूं जब कभी ,मैं तेरे बारे में
बन के घटा आंखो में छाये ,इक इशारे में
तू पलकों पे आता है ,मुझसे मिल जाता है
तू मन का मीत है ,गजल है गीत है ,तू संगीत है
तू संगीत है …………………………………
दूरीयां हैं जो दरमयां ,रिश्तो मे फिर भी गर्मीयां
कशिश है कितनी प्यार मे ,मज़ा है इंतज़ार मे
तू मेरी आरज़ू है ,तू मेरी जुस्तजू है
तू मन का मीत है ,गजल है गीत है ,तू संगीत है
तू संगीत है ……………………………….
जब तू नही था जिंदगी मे ,थी कमी कोई कही पे
अब नज़ारे हैं जवां ,बदली बदली है फिज़ा
सेहरा गुलशन बना है ,चमन दिल का खिला है
तू मन का मीत है ,गजल है गीत है ,तू संगीत है
तू संगीत है ………………………………
RKV(MUSAFIR)
******

Leave a Reply