मुसाफिर का सफर

नादॉ हैं वो जो गमों से घबराते हैं
ये तो मौसम हैं जो जिंदगी में आते हैं
एक ही मौसम किसी को लुभाता नहीं है
गम के बादल भी मौसम में बरस जाते हैं
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply