मुसाफिर का सफर

गर्दिशे दौर है, निगाहें बचा के चलते हैं लोग
जो साथ हैं कुछ मजबूर हैं ,कुछ आशिक लगते है
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply