मुसाफिर का सफर

अपनी हिफाज़त तो खुदा, यार करता है
दैरों- हरम कि फिर क्यों ऊंची दीवार करता है
R.K.V.(MUSAFIR)
****

Leave a Reply