मुसाफिर का सफर

बाज़ी लगा के बैठे हैं हम एक ख्वाब पे
कोई सिला मिले ,तो फुर्सत मिले हमें
R.K.V.(MUSAFIR)

Leave a Reply