मुसाफिर का सफर

आइने से क्या पुछ्ते हो, मेरी नज़रों से पुछो
जो हर अदा को पड लेतीं हैं , इशारों को समझ लेतीं हैं
R.K.V.(MUSAFIR)
******

Leave a Reply