मुसाफिर का सफर

तेरी याद दिल में अब भी मेह्मान बन के रह्ती है
छोडती नहीं `कमरा ‘ मेरा देती नहीं `किराया ‘ मुझको
R.K.V.(MUSAFIR)
*****

Leave a Reply