मुसाफिर का सफर

फर्ज अदा करूं ये फर्ज है मेरा यकीनन
कुछ खोना भी पडता है कुछ पाने के लिये
R.K.V.(MUSAFIR)
****

Leave a Reply