मुसाफिर का सफर

उम्मीद कैसे छोड दूं ,जिंदा हूं अभी
मिट्टी भी बिकती है वक़्त की बात है
R.K.V.(MUSAFIR)
****

Leave a Reply