छोटी छोटी सी बात

संसकृति और सभ्यता आज के ज़माने में
समझते हैं लोग बह्ती है गंगा क्या हर्ज़ है नहाने में

Leave a Reply