मैं ईश्वर हूं मुझे ईश्वर ही रह्ने दो

प्रकृति में जो कुछ बिख्ररा है
सब कुछ तुम्हारा है
मुफ्त की सॉसे मुफ्त है तन मन
न मैं बाधा न मैं बंधन
तुम अपनी स्वार्थी व्य्वास्थाओं का दोष
मुझ निर्दोष को न दो
मैं ईश्वर हूं ……………
मेरे लीला अवतार और व्यव्हार
समझाने राह दिखाने को
मर्यादा और प्रेम कि भाषा
संसार का सार बताने को
कुर्बानी संघषे मेरे सब
तुम्हे इंसान बनाने को
मैं ईश्वर हूं……………
विज्ञान के चमत्कार को
नमस्कार तुम करते हो
मैं विज्ञान का जन्मदाता हूं
क्यूं नहीं बात समझते हो
तुमको बुधि यंत्र दिया है
गुना-भाग सब करने को
मैं ईश्वर हूं……………
R.K.V.(MUSAFIR)
******