जब से आईलो छे फोन

जब से आईलो छे फोन
मन करे छे ओन-बोन
हैं गे माई आबे की करबे
मनो न लागे छे
मन करे छे ओन-बोन…..
दिल मे बेचैनी होवे छे
मनो मे खलबली मचे छे
रातो मे नींद न आवे छे
रात भर करवटे बदले छिये
है गे माई आबे की करबे
मनो न लागे छे
मन करे छे ओन-बोन
जब से आईलो छे फोन
मन करे छे ओन-बोन….
सैया जे आईते त
घर ठो गंदा जे गेखते
हमरा पे चिड़ते,हमरा के डाटते
डरो लागे छे,प्यारो आवे छे
है गे माई आबे की करबे
मनो न लागे छे
मन करे छे ओन-बोन
जब से आईलो छे फोन
मन करे छे ओन-बोन…..
सबेरे उठबे,साफ-सुथरा करबे
ताजा-ताजा बढ़िया खाना पकाईबे
अपनो हाथो से खिलाईबे
मनो न लागे छे,आबे की करबे
जब से आईलो छे फोन
मन करे छे ओन-बोन….
नहाई बो करबे
नया साड़ियों पहनबे
सज-धज के सेन्टो लगाईबे
नया दुलहन बनी के
उनको सामना मे जाईबे
जब मिलते दोनो के नैन
थोड़ा मुस्कूराईबे,थोड़ा शरमाईबे
मनो न लागे छे,आबे की करबे
जब से आईलो छे फोन
मन करे छे ओन-बोन…..
गोदिया मे उठाईते
कमरा मे ले जाईते
हमे रूशबे,थोड़ा गालो फुलाईबे
जब किमती हारो पहनाईते
हमरा फुसलाईतेऔरो मनाईते
है गे माई आबे की करबे
मनो न लागे छे
जब से आईलो छे फोन
मन करे छे ओन-बोन…..
@md.juber husain

One Response

  1. md. juber husain md. juber husain 18/11/2015

Leave a Reply