शुक्रिया

किस किसकी रहमत से यहाँ पहुँचे, याद रहा
ऐ खुदा, यादाश्त का शुक्रिया
किसकी लगी थी ठोकर, भूल गया
शुक्रिया खुदा नुक़्स भी साथ दिया

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 15/11/2015
    • Girija Girija 16/11/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir 15/11/2015
    • Girija Girija 16/11/2015

Leave a Reply