उसे कह न पाया

दुख यही था, जो सह न पाया
समय पर तुमको मैं, कुछ कह न पाया
याद मुझे तेरा जब-जब आया
आँसुओ को मैंने जाम बनाया ।

किया महशुस, तूने जब-जब सताया
तेरा प्यार पर, मैं न पाया
हुआ दर्द पर, मैं न बताया
तूने मुझे जब-जब है सताया ।

दुख यही था, जो सह न पाया
तेरे साथ कुछ समय न बिताया
यही बात है अब मुझे सताया
क्यों तेरे संग कुछ समय न बिताया ।

करता हूँ प्यार यह मैंने न जताया
दर्द की जुबां तू समझ न पाया
कितना तूने है मुझे सताया
पर मेरे मन को तो, तू है भाया ।

दुख यही था, जो सह न पाया
समय पर तुझसे कुछ कह न पाया
मेरा ख्याल भी तुझे न आया
आंखो की बते तू समझ न पाया ।

दुख यही था, जो सह न पाया
समय पर तुमसे कुछ, मैं कह न पाया
याद मुझे तेरा जब-जब आया
आँसुओ को मैंने जाम बनाया।

-संदीप कुमार सिंह ।

Leave a Reply