प्यारी बहना

प्यारी बहना

मेरी प्यारी नन्हीँ बहना
है वो सारे घर का गहना।

सुंदर मुखङा, गोल-मटोल
चंचल आँखे लगती प्यारी,
ना वो रुकती, ना वो थकती
बातेँ करती ढेर सारी।।

उछल कूद कर शोर मचाती
स्कूल से जाने है कतराती,
गुस्से मेँ कुछ कह दो उसको
पल भर मेँ वो रूठ भी जाती।।

सारा दिन वो रहे खेलती
चाँद भी लगता उसे गुब्बारा,
“मुझे वो लाकर दे दो भइया
नहीँ मांगुगी फिर मेँ दोबारा।।”

ना वो लङती, ना झगङती
मस्ती उस पर रहती छाई,
उसकी बातोँ से घर भी महके
संग खुशियाँ है लेकर आई।।

सदा खुश तुम यूँ ही रहना,
मेरी प्यारी नन्ही बहना।।
—गुरप्रीत सिँह.

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/11/2015

Leave a Reply