* यह क्या हुई बात !*

कबीर भक्त्त कबीर पंथी कहलायें
जो उन्होंने माना की उसी पर
सरपट दौड़ लगायें
उनकी मूरत बना शिखर पर चोंगा बांध
अलख जगायें।

यह क्या हुई बात !

साईं का भी क्या कहें बात
जो एक बून्द तेल के लिए भटकते थे दिन-रात
उनके सम्मुख आज मनो तेल
जलती हो जाती राख।

यह क्या हुई बात !

जो सम्पूर्ण जीवन गुजार दी गरीबी में
आज उनकी मूरत का पाँव भी
नहीं पड़ती मिट्टी पे
मूरत सिर स्वर्ण मुकुट
सुबह-शाम चढ़ते गुलाब।

यह क्या हुई बात !

कास लोग उनके उद्देश्यो
को समझ जाते
दिन-दुखियो की सेवा करते
भाईचारा निभाते मानव धर्म अपनाते ,
लोगो को कैसे समझाऊ
नरेन्द्र की क्या अवकात।

यह क्या हुई बात !

यह क्या हुई बात !

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 12/11/2015
  2. नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 12/11/2015
  3. Ashita Parida Ashita Parida 13/11/2015
  4. Ashita Parida Ashita Parida 13/11/2015
  5. नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 13/11/2015

Leave a Reply