इंसान की औलाद,

दुनिया की बुराइयो से बच सके,
इतनी ताकत तुझ में भी नही मुझ में भी नहीं !
दोनों ठहरे इंसान की औलाद,
स्वंयशम्भू तो यंहा तू भी नही और मै भी नहीं !!

—:: डी. के निवातियाँ ::—-

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/11/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/11/2015

Leave a Reply