मेरे गीत

मेरे गीत

मेरे गीतों को
सुरों में ढालकर अपने
बदल दो मेरी तकदीर
बदल दो मेरे सपने।
आज तक मेरे गीतों को
दी नही किसी ने अहमियत
देकर अहमियत तुम
आगे बढ़ा दो इन्हें।
बदल दो मेरी तकदीर
बदल दो मेरे सपने ।
टूटे हुए शब्दों को
आवाज में तुम बदल दो
हो जाएं गीत अमर मेरे
ऐसा काम करो प्रिये
बदल दो मेरी तकदीर
बदल दो मेरे सपने।
निःस्वार्थ गाकर ये गीत
बना लो इन्हे अपना मित
सम्मान मिले या मिले बुराई
लोगों को गाकर सुना दे।
बदल दो मेरी तकदीर
बदल दो मेरे सपने।
-ः0ः-

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/11/2015

Leave a Reply