सरहदें

बांध रखा है तुझे और मुझको भी इन हदो ने
पर ये हदें क्या हैं ?
खफा हैं दो मरुभूमि इक-दूजे से;
वो सरहदें क्या हैं ?
चुनिंदा जमीनी टुकड़ो का ,
जमा है ढेर…
हकों के दस्तावेजो का।

One Response

  1. Girija Girija 05/11/2015

Leave a Reply