भुला न पाओगे ……..

भुला न पाओगे जीवन में,
कुछ ऐसा फ़साना लिख जाऊँगा !
याद करोगे मेरी वफाये
जब दुनिया से विदा हो जाऊँगा !!

आज नकारा कह लो तुम
पर अकेले में याद बहुत आऊंगा !
पाओगे खुद को तन्हा तुम
जब दुनिया से बेगाना हो जाऊँगा !!

धन से मै आज कंगाल सही
कल यादो का पिटारा भर जाऊँगा !
ढूँढोगे चुन चुन कर तुम
कदमो के ऐसे निशाँ छोड़ जाऊँगा !!

मिटा लो ख्वाहिशे नफरत की
जिन्दा रहते सब सह जाऊँगा !
एक बार चला गया जहां से
फिर प्यार का सागर नजर आऊंगा !!

चला था सफर पे उगते सूरज की तरह
वक़्त के संग ढलते-ढलते ढल जाऊँगा
माना आज कद्र नही “धर्म” की
कल आँखों का तारा बनके रह जाऊँगा !

भुला न पाओगे जीवन में
कुछ ऐसा फ़साना लिख जाऊँगा !
याद करोगे मेरी वफाये
जब दुनिया से विदा हो जाऊँगा !!
!
!
!
{{______डी. के. निवातियाँ _____}}}

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/11/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/11/2015
  2. Shyam Shyam tiwari 04/11/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/11/2015
  3. RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 04/11/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/11/2015
  4. Girija Girija 05/11/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/11/2015

Leave a Reply