“कलम” डॉ. मोबीन ख़ान

घुमा घुमा के जो लिखा।
तो एक दिन तेरा सच लिख दूंगा।।

यह कलम खुदा का सच लिखने से तो डरती ही नहीं।
ऐ इंसान एक दिन तेरा सच लिख दूंगा।।

2 Comments

  1. Sukhmangal Singh sukhmangal singh 01/11/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/11/2015

Leave a Reply