रचना

यह भी एक सिीधी सिधी रचना है
सिधी हाेते हुए यही रचना नही है बल्की एक चना है ।
रचना हमकाे रचाती है
रचना ताे हमकाे नचाती है ।
अबके वर्ष रचना भी
चना बन जाती है
रचनाके साथ अर्चना भी अाजाती है ।

Leave a Reply