” मुमकिन है “

मुर्दे में जान फूंकना
मुमकिन नहीं
लाशों में आवाज़ फूंकना
मुमकिन नहीं

मुमकिन है
जीते जी बंजर न बनना
मुमकिन है
मरने से पहल ना मारना…!

3 Comments

  1. Girija Girija 29/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/10/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/10/2015

Leave a Reply