“इश्क़ “

“इश्क़ नशे की सुनलो तुम भी
आदत ही कुछ ऐसी थी |
जीती बाज़ी हार गए हम
कीमत ही कुछ ऐसी थी ||”

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/10/2015
  2. omendra.shukla omendra.shukla 28/10/2015

Leave a Reply