“दीवाना” डॉ. मोबीन ख़ान

तू कैसा दीवाना है मोबीन।
उनका हर एक तराना तुझे अच्छा लगा।।

वो झूठ बोलकर गैरों से मिलते रहे।
पर उनका हर एक बहाना तुझे अच्छा लगा।।

4 Comments

  1. Ashita Parida Ashita Parida 26/10/2015
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 27/10/2015
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 26/10/2015
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 27/10/2015

Leave a Reply