“खैरात “

देखो कितने बदल गए वो हालात की तरह
अब मिलते नहीं पहली मुलाकात की तरह|
इतने सालों के बाद एक चीज मिली
ये मोहब्बत ,वो भी खैरात की तरह ||