“तन्हाई”

तन्हाई का आलम था
रात भी घनी अंधकार की थी |
सारी दुनिया थी पास मेरे
बस एक तेरी ही कमी थी ||