“जहाँ “

गुजर गए सपनो के वो दिन
ख़त्म हो गयी प्यार की इन्तहां |
जिस दिन से छोडके गए वो हमें
सुना पड़ा है हमारा ये जहाँ ||

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 25/10/2015

Leave a Reply