हाथ पकड़ जंजीर बना

हाथ पकड़ जंजीर बना ।

क्यों यों सहमा
तकदीर बना
मैं संग हूँ तेरे
गाता जा ।

चिल्ला दे हंसकर
गीत बना ।

हम सब साथी
हो गम क्या परवाह
झेलेंगे हंसकर
साथ साथ हाँ।

चल हाथ बढ़ा
जंजीर बना ।
– औचित्य कुमार सिंह

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/10/2015

Leave a Reply