शायरी – २

डरने वाले मुहब्बत की हसरत नहीं रखते !
रखते भी तो करने की जुर्र्त नहीं करते !
बुजदिली मे तुम मुहब्बत की तौहीन मत करना ,
डर-२ के कभी इजहार-ए-मुहब्ब्त नहीं करते !!

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/10/2015
    • Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 29/10/2015
  2. Shyam Shyam 24/10/2015
    • Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 29/10/2015
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/10/2015

Leave a Reply