अश्क

छलक नैनों में अश्क कहीं
यादों को समेट लाते है |
दिल में दबी चाहत को
फिर ताजा कर जाते है ||

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 22/10/2015
  2. डी. के. निवातिया dknivatiya 22/10/2015
  3. omendra.shukla omendra.shukla 23/10/2015

Leave a Reply