रावण

रावण

हर वर्ष जलाते है हम सैकड़ो रावण के पुतले
क्या जाने कब असली रावण सच में जल पायेगा !!

इंसान ही इंसान में खोज रहा है इंसान को
क्या हम में कोई पुरुषोत्तम राम बन पायेगा !!

सत्य अहिंसा का पाठ हमको अब याद नही
कैसे जीवन में शांतिमय क्षण मिल पायेगा !!

हर घर में रावण बैठा सीता की घात लागए
जाने कब कोई राम बन उसकी लाज बचायेगा !!

क्या होगा पुतले फूंक-फूंक जब तन-मन मैला हो चला
लाख करो रामलीला, क्या सच में रामपथ चल पायेगा !!

पल पल दुनिया बदल रही,वक्त ने है बदली अपनी चाल
लकीर के हम फ़कीर हुए है, जाने कब ये समझ पायेगा !!

धर्म कर्म के नाम पर शैतानो से हम लुटते आये है
दुनिया हम से सीख रही,जाने खुद कब समझ पायेगा !!

जला सको तो जला दिखाओ अपने अंदर बैठे रावण को
अहंकार, ईर्ष्या, द्वेष भाव मिटा दो, प्रेम स्वयं जग जाएगा !!

:::— डी. के. निवातियाँ—:::

6 Comments

  1. Shyam Shyam 22/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir 22/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/10/2015
  3. RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 22/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/10/2015

Leave a Reply