सब्जी वाला – शिशिर “मधुकर “

देखो आया सब्जी वाला देखो आया सब्जी वाला

किसी को कहता है अम्मा जी किसी को कहता है वो खाला
गोभी लेलो. बैगन लेलो. टमाटर भी है लाल वाला
आलू प्याज के संग रखा है मोटा कद्दू भोला भाला

देखो आया सब्जी वाला देखो आया सब्जी वाला

सब्जी वाला जो ना आए घर में खाना बन ना पाए
किसी काम में दिल नहीं लगता हरदम सबको जब भूख सताए
चौपट हो जाता है सब कुछ और भूखे भजन ना हो गोपाला

देखो आया सब्जी वाला देखो आया सब्जी वाल

नई नई जब सब्जी आती मौसम का भी हाल बताती
मटर. मेथी. गोभी जब आए रात में सर्दी बढ़ती जाए
मक्के की रोटी संग घर बनता सरसों का साग निराला

देखो आया सब्जी वाला देखो आया सब्जी वा

जैसे जैसे गर्मी आती लौकी तोरई हैं सज जाती
खीरे और ककडी का मम्मी रोज़ रोज़ सलाद बनाती
कभी कभी खाना पड़ता है वही करेला कड़वा वाला

देखो आया सब्जी वाला देखो आया सब्जी वाला

इस धंधे से देश में देखो कितनों को रोजगार है मिलता
अगर ना हो सब्जी संग में थाली में भोजन नहीँ खिलता
ना जाने किस काम आएगा तब इतना सारा मिर्च मसाला

देखो आया सब्जी वाला देखो आया सब्जी वाला

शिशिर “मधुकर”

6 Comments

  1. आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 'आलेख' 19/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir 19/10/2015
  3. डी. के. निवातिया dknivatiya 19/10/2015
  4. Shishir "Madhukar" Shishir 19/10/2015
  5. RAJ KUMAR GUPTA Raj Kumar Gupta 19/10/2015
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/10/2015

Leave a Reply