सायरी ||

“सर में सौदा भी नहीं,दिल में तमन्ना भी नहीं
उस बेवफा मोहब्बत का भरोसा भी नहीं |
हुई रोशन महफिले एक मुद्दत से मेरी
मगर जरुरत थी जिस रोशनी की वो आई नहीं ||”