* विरोध *

माना विरोध एक अधिकार है
लोकतंत्र का एक औजार है
इसका सही और सटीक इस्तेमाल करें
बेवजह का राग न छोड़े ,

विरोध का भी आज गजब अफसाना है
इसके भी लोग दीवाना है
विरोध में लोग अपना वैभव नहीं छोड़ते
न ही एक दिन का उपवास हैं करते,

कौन , किसका, किस लिए विरोध कर रहा
ए भी तो दिखाई दे
साहित्यकारों का विरोध
साहित्य में भी तो सुनाई दे ,

समर्थन से जो कली नहीं मिला
विरोध से आज वो फूल खिला
विरोध में जो लोग, आज पुरस्कार लौटा रहे
पाने से ज्यदा लौटाने में नाम पा रहे ,

विरोध से विकाश नहीं हो सकता
सुझाव, सहयोग , जन जागृति ही रास्ता खोल सकता
नरेन्द्र विरोध का आज अपना ही क्रेज है
लोग सोच रहे इसी में रेज है।

3 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/10/2015
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/10/2015
  3. नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 17/10/2015

Leave a Reply