इल्तिजा……………( ग़ज़ल )

कभी मोहब्बत ने मारा, कभी बेरुखी ने मारा !
मेरे ही रहनुमाओ ने, हमेशा मुझे बे-मौत मारा !!

है जिंदगी पे मेरा भी, हक़ मानव तेरे ही जैसा !
फिर क्यों मुझे दुत्कारा, क्यों नही मेरा आना गंवारा !!

दिया कैसा सिला तुमने मुझे गणिका बना डाला !
जब मेरे ही रूप ने था, तुझे इस दुनिया में उतारा ! !

कभी महफ़िल में सजाया, कभी कोठो पे उतारा !
कभी लाज़ ने है मारा, कभी हमे शर्म ने है मारा !!

क्या थी मेरी खता, मेरे मालिक मुझे दे बता !
क्यों मुझे कोख में मारा, कभी गोद में मारा !!

मेरा जीवन बनके रह गया तेरे हाथो का खिलौना !
कभी मंदिरो में बिठाया, कभी मयखाने में उतारा !!

इतनी है तुमसे इल्तिजा “धर्म” जीने का दो सहारा !
मैंने तेरी हर रज़ा पर था अपना सारा जीवन हारा !!
!
!
!
[——–डी. के. निवातियाँ ——]

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/10/2015
  2. Er. Anuj Tiwari"Indwar" Er. Anuj Tiwari"Indwar" 17/10/2015
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/10/2015

Leave a Reply